नोटों से भरा है दिल जिनका-हिन्दी कविता (noton se bhara hai dil jinka-hindi poem)


हलवाई कभी अपनी मिठाई नहीं खाते
फिर भी तरोताजा नज़र आते हैं।
बेच रहे हैं जो सामान शहर में
उनकी दवा और सब्जी शामिल हैं जहर में
कहीं न उनके मुंह में भी जाता है
मग़र गज़ब है उनका हाज़मा
ज़हर को अमृत की तरह पचा जाते हैं।
———————–
सुनते हैं हर शहर में
दूध, दही और सब्जी के साथ
ज़हर बिक रहा है,
फिर भी मरने वालों से अधिक
जिंदा लोग घूमते दिखाई दे रहे हैं,
सच कहते हैं कि
पैसे में बहुत ताकत है
इसलिये नोटों से भरा है दिल जिनका
बिगड़ा नहीं उनका तिनका
बेशर्म पेट में जहर भी अमृत की तरह टिक रहा है।
———-

कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप, Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com

————————-
यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • NITESH KUMAR  On 04/10/2010 at 16:37

    THANKS ,YAH EK BAHUT ACHHI KAVITA HAI.

  • Vishal  On 31/12/2010 at 04:34

    नैतिकता और दलाली-हिन्दी हास्य कविता (natikta aur dalali-hindi hasya kavita)
    दलाल और रचनाकार-हिन्दी व्यंग्य कविता (dalal aur rachnakar-hindi vyangya kavita)
    अपने जिंदा होने के अहसास से भी डर लगने लगा है-हिन्दी शायरी
    भूख और गद्दारी-हिन्दी व्यंग्य चिंतन लेख (bhookh aur gaddari-hindi vyangya chittan lekh)
    अँधेरे में खड़े भारत को जगमगाएं-हिन्दी कविता
    लिपस्टिक प्रेम-हिन्दी हास्य कविता (lipstic prem-hindi hasya kavita)
    शहीदों की चिता पर मनाते दिखावे का शोक-हिन्दी व्यंग्य कविता (shahidon ki chita par dikhave ka shok-hindi vyangya kavita)
    उनके आंगन हुए रोशन-हिन्दी व्यंग्य कविता (unke ghar hue roshan-hindi vyangya kavitaen)
    दीपावली (दीवाली) और भारतीय अध्यात्म दर्शन-हिन्दी आलेख (deepawali or diwali and bhartiya

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: