संत कबीर के दोहे-प्रेम प्रसंग कभी छिपते नहीं (kabir ke dohe-prem prasang kabhi chhipte nahin)


संकलक एवं संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior

http://anantraj.blogspot.com
_______________________
पर नारी पैनी छुरी, विरला बांचै कोय
कबहुं छेड़ि न देखिये, हंसि हंसि खावे रोय।

संत कबीर दास जी कहते हैं कि दूसरे की स्त्री को अपने लिये पैनी छुरी ही समझो। उससे तो कोई विरला ही बच पाता है। कभी पराई स्त्री से छेड़छाड़ मत करो। वह हंसते हंसते खाते हुए रोने लगती है।
पर नारी का राचना, ज्यूं लहसून की खान।
कोने बैठे खाइये, परगट होय निदान।।
संत कबीरदास जी कहते हैं कि पराई स्त्री के साथ प्रेम प्रसंग करना लहसून खाने के समान है। उसे चाहे कोने में बैठकर खाओ पर उसकी सुंगध दूर तक प्रकट होती है
            वर्तमान संदर्भ में संपादकीय व्याख्या-पाश्चात्य सभ्यता के प्रवेश ने भारत के उच्च वर्ग में जो चारित्रिक भ्रष्टाचार फैलाया उसे देखते हुए संत कबीरदास जी का यह कथन आज भी प्रासंगिक लगता है। फिल्मों और टीवी चैनलों के धारावाहिकों में एक समय में दो बीबियां रखने वाली कहानियां अक्सर देखने को मिलती हैं, भले ही कुछ फिल्मों में हास्य के साथ दो शादियों की मजबूरी बड़ी गंभीर नाटकीयता के साथ प्रस्तुत की जाती है पर उनका सीधा उद्देश्य समाज में चारित्रिक भ्रष्टाचारी को आदर्श की तरह प्रस्तुत करना ही होता है। फिल्म हों या टीवी चैनल उन पर नियंत्रण तो उच्च वर्ग का ही है और उसमें व्याप्त भ्रष्टाचार को फिल्म और टीवी चैनलों के धारावाहिकों में आदर्श की तरह प्रस्तुत करने का उद्देश्य अपने धनिक प्रायोजकों को प्रसन्न करना ही होता है।
          हमारे महापुरुषों ने न केवल सृष्टि के तत्व ज्ञान का अनुसंधान किया है बल्कि जीवन रहस्यों का बखान किया है। चाहे अमीर हो गरीब दो पत्नियां रखने वाला पुरुष कभी भी जीवन में आत्मविश्वास से खड़ा नहीं रह सकता। इसके अलावा पाश्चात्य सभ्यता के चलते पराई स्त्री के साथ कथित मित्रता या आत्मीय संबंधों की बात भी मजाक लगती है। यहां एक वर्ग ऐसे गलत संबंधों को फैशन बताने पर तुला है पर सच तो यह है कि पश्चिम में भी इसे नैतिक नहीं माना जा सकता। जब इस तरह के संबंध कहीं उद्घाटित होते हैं तो आदमी के लिये शर्मनाक स्थिति हो जाती है। कई जगह तो पुरुष अपनी पत्नी की सौगंध खाकर संबंधों से इंकार करता है तो कई जगह उसे सफाई देता है। भारत हो या पश्चिम अनेक घटनाओं में तो अनेक बार पति के अनैतिक संबंधों के रहस्योद्घाटन पर बिचारी पत्नी सब कुछ जानते हुए भी पति के बचाव में उतरती हैं। साथ ही यह भी एक सच है कि ऐसे अनैतिक संबंध बहुत समय तक छिपते नहीं है और प्रकट होने पर सिवाय बदनामी के कुछ नहीं मिलता।

         इसलिये पुरुष समाज के लिये यही बेहतर है कि वह न तो दूसरा विवाह करे न ही दूसरी स्त्री से संबंध बनाये। ऐसा करना अपराध तो है ही अपने घर की नारी का सार्वजनिक रूप से तिरस्कार करने जैसा भी है। अपने घर की नारी का अपमान अंततः अपने तथा परिवार के सदस्यों के लिये अपमान का कारण बनता है। दूसरा यह भी कि समाज के लोग भले सामने नही कहें पर पीठ पीछे अत्ंयत उपहासजनक तथा निंदाजनक बयान बाजी करते हैं।
————————

यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन

Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • shivsinghrana  On 02/10/2010 at 10:52

    this is a nice

  • deepak  On 12/11/2010 at 17:22

    i request for d hindi sattire poem of shri sharad josji ji..” nal hai par paani nahi aata hai..’…i would be highly obliged if some reader can mail me d same…thanx a lot…dhanyavaad…

  • MONIKA ADHIKARI  On 23/02/2011 at 17:01

    MUJE APKA DOHA BOHU ACHHA LAGA VERY NICE

  • baber  On 27/02/2011 at 11:40

    per jis se control n ho vo kya kre

  • Krishna Singh  On 17/03/2011 at 23:14

    Bahut hi achha hai ye kabir ji ki vaani.

  • rajkumar  On 04/04/2011 at 21:48

    hame kabir k dohe achhe lage

  • Bhupinder Sharma  On 27/04/2011 at 17:12

    hame kabir ke dohe bahut hi achhe lagte hai kripa karke hame kabir ji ke dohe hamari email bhupinder38430@gmail.com par bhajne ka kasth karen.

    aap ke ati kripa hogi, dhanyavad sahit

    bhupinder sharma

  • amit chauhan  On 03/05/2011 at 20:53

    THIS ARE GOOD DOHE

  • amit chauhan  On 03/05/2011 at 20:55

    THESE ARE GOOD DOHE

  • chandra dev singh  On 26/05/2011 at 16:38

    i am belong from native place of kabir.according to my legacy familyhe is very labourous man. i glad to him.

  • Shabbir  On 28/05/2011 at 13:17

    ”Dhanyawad” Yeh sacchi baat to Kabir Das Ji ne hi kahi, vaki ke Anek Dham to……AAJ HUM SABHI KO Kabir Das Ji ke vicharo KO Batne ki shakt Jaroorut hai !
    कबीरा जब हम पैदा हुए, जग हँसे हम रोये,
    ऐसी करनी कर चलो, हम हँसे जग रोये

    कामी क्रोधी लालची, इनसे भक्ति न होय |
    भक्ति करे कोई सुरमा, जाती बरन कुल खोए ||

    कबीर मन पंछी भय, वहे ते बाहर जाए |
    जो जैसी संगत करे, सो तैसा फल पाए ||

  • pradeepkushwaha  On 21/06/2011 at 20:04

    DOHE JIWAN KO NYI DASHSA AUR DISHA DE SAKTE HAI.BASARTE ENHE PADANE KE BASTU NA MANKAR LIFE ME UTTARNE KA PARYAS KIYA JAYE..THANKYOU.

  • RAKESH MEHRA JYOTISH MAHARAT  On 30/06/2011 at 09:04

    kabir ji ke vani may hi shitltha va komaltha ha. kabir ji ke -vani sun kar ya pad kar vyakti apnay maan may basay pap ko be apni maan-atma may se dur kar sakta ha. va sunder jiven ka nirman kar sakta ha. sunder jivan hi hamay sunder sanskar deye sakta ha. aur sunder sanskaro ke dawara hi sunder karmo ka nirman ho sakta ha.
    RAKESH MEHRA JYOTISH MAHARAT
    http://www.rakeshmehrajyotish maharat.co.cc
    9213817117

  • rajkumar dwivedi  On 01/07/2011 at 21:51

    KABIR READ KARENE KI VASTU NAHI HAI VO TO GRAHAN KARANE KI VASTU HAI
    JO KABIR SANGATI KARE,VO HI KABIRA HOY.
    JO KABIRA SANSAYA KARE ,TO FIR JAGA ME KHOY:

  • Rajkumar dwivedi  On 01/07/2011 at 22:09

    SANSAR ME SUKH TO SABHI CHAHATE MAGAR SUKHA KAYA HAI KOI JANATA HAI. MAGAR MAI AAP LOGO BATANA CHATA HO KI DUKHA HI SUKHA KA
    BEEZ HAI JO FRUIT(FAL) KE ROOP ME AAP KO MILATA HAI KYO
    KI BEEZ SE FAL TAK KA SAFAR BAHUT HI MEHANAT LETA HAI

    IS LIYE SUKHA CHAHANE WALO KO DUKH SE DARANA YA BHAGANA
    NAHI CHAHIYE.

  • Rakesh Mehra Jyotish Maharat  On 11/07/2011 at 09:20

    JHOOT NA AISA BOLIYE JO DUSRO KO BE GALAT RAHA DIKYE. MANN KO APNAY HI MELLA KARAY . DUSRO KAY DOSHO KO APNAY UPER LAY KAR KUDH HI MATTI HO JAYE. EK MATTI JO AGG KI BHATHI MAY JALTI REHTI HA. EK MATTI JO SHITAL JALL KI GAGAR[GHRAA] BANTI HA.SOCH ABB TU BAS THORA SA TU KON SE MATTI BANNA CHATA HA.
    RAKESH MEHRA JYOTISH MAHARAT
    9213817117

  • Rakesh Mehra Rakesh Mehra  On 14/07/2011 at 22:09

    APNAY BHAGYE KA NIRMAN KRAY ASHIRWAD VA ASTHAO PER UMID KAR KAY JIVAN KA SAMAY MATT BARBAD KRAY
    NOTE: MAHABHARAT-KAL MAY ASHIRWAD VA ASTHAO KAY BHAROSAY SAB KAY SAB MARAY GYE THAY . JO BACHAY WO VARAGYE KO PRAPT HO GYE
    APNAY SUNDAR SANSKARO KAY DAWARA HI ACHAY VA SNDER KARMO KA VA BHAGYE KA NIRMAN HOTA HA.
    RAKESH MEHRA JYOTISH MAHARAT
    9213817117

  • Rakesh Mehra Rakesh Mehra  On 15/07/2011 at 20:40

    sant kabir ji nay apnay jivan ko sadha va nirmal rakha. lagta ha un ki atma sansar ki hasin va sunder vadiyo may hi vichran kerti thi. tabi un ki vani may itni jayda shitlta va komalta va ras bhara tha. jyotish-gyan kay hisab say sant kabir ji ka budh gra bettar thinking va candition may hoga.
    http://www.rakeshmehrajyotishmaharat.co.cc

  • RAJPUT GHANSHYAM  On 27/07/2011 at 21:59

    KABIR NE KAHA HAI “NAARI KI JHAIN [CHHAYA] PARAT.ANDHA HOYE BHUJANG..KABIR TINKI KA GATI JO NIT NAARI KE SANG..LEKIN WINA NAARI KE KABIR SE BHI NA RAHA GAYA AAKHIR MUKH SE NIKALHI GAYA KI.” NAR-NAARI KE SWAD KO KHASI NAHIN PEHCHAAN.TATWA GYANI KE SUKH KO AGYANI NAHIN JAAN.JAHAN BAAT SANTON KI CHALTI HAI TO BAAT MEN SE BAAT NIKALTI JAATI HAI. AUR AKAATYA HOTI HAI JO IN DOHON SE SAAF HO JAATA HAI. JIYON KELE KE GAAT MEN.GAAT GAAT MEN GAAT/TIYON SANTAN KI BAAT MEN.BAAT BAAT MEN BAAT/ AAGE KAHA HAI KI.RAVI KAA TEJ GHATE NAHIN.JO GHAN JUREN GHAMAND.SANT VACHAN PLTE NAHIN PALAT JAYE BRAHMAND/ SADBHAWNA KE SAATH/

  • rita  On 13/09/2011 at 12:43

    Its a wonderful doha, I like very much

  • Dimpy Aggarwal  On 20/09/2011 at 12:48

    kabir ke dohe bhut ache hote h i like very much

  • ॐ प्रकाश  On 19/10/2011 at 18:29

    नारी होती है सब रूपों में चाहे जो देख लो
    हम नारी से ही है चाहो तो माँ बहन का प्यार लो
    देवता आदमी को बनाती भी यहीं है
    ना मानों तो शैतान भी जगा के देख लो
    सुना शायद तुमने नही होगा की
    आदर्श रूप से कोई बर्बाद हुआ है
    विकृत बनाने वाले तो हम ही है
    नहीं तो वो वात्सल्य अपने मे जगा के देख लो
    आज समाज में रोज भूर्ण ह्त्या पर गोष्ठी
    रोज होता वही जिसे रोकने पर चर्चा होती
    अधूरा है वो बाप जिसे सुता का प्यार न मिले
    नहीं तो पूतों से तुम सुखी होके देख लो ………………..

  • A.k.sOLANKI  On 28/10/2011 at 20:36

    नारी की झांई पडत, अंधा होत भुजंग।
    कबिरा तनकी कौन, गति नित नारी के संग।।
    क्या बता सकते हैं उपरोक्त दोहा कबीर जी का ही है।
    ए.के.सोलंकी

  • manoj  On 02/11/2011 at 11:29

    please mujhe kabir ji ke dohe aur bhej de

  • kavita yadav  On 05/12/2011 at 12:50

    Realy i like kabeer k dohe…”

  • Deepak Singh  On 05/12/2011 at 16:05

    NAMASKAR
    YEH DOHE BAHUT ACHHE HAIN AUR INSE HUME BAHUT KUCH SEEKH MILTI HAI. MUJHE KABIR KE DOHE BAHUT ACHHE LAGTE KRAPA KARKE MUJH ADHIK SE ADHIK DOHE MERI MAIL.Id deepakthakur.1553@rediffmail.com par bheje apki ati kirpa hogi Dhanyabad

  • भवानी दत्त  On 16/03/2012 at 22:57

    कबीर के दोहे बहुत अच्छे हैँ.
    भवानी दत्त बगडियाल गाँव पौडी गढवाल से

  • sharat  On 26/05/2012 at 11:01

    wow

  • aakash sharma  On 09/08/2012 at 18:57

    very gooood

  • santosh  On 13/12/2012 at 21:02

    vistar se samzaiye kuch bate dimag manta nahi he

  • tushar nagle  On 12/11/2013 at 17:54

    are agar samne sexy ladki kadhi ho to kya kare

  • Monu das  On 02/05/2014 at 09:37

    Bhaiyo kavir g to khud purn parmatma the

  • Monu das  On 02/05/2014 at 09:42

    Kavir g anphd hote hue sare ved ka gyan bta diya or aaj say 600 sal phle data kavir g ne 64 lakh sisya bnaye the yai
    Kary 1 simple men lakh janm nhi kar sakta
    Jise bhi
    .kuch khna vo mujko email
    Kar de
    Dasmonu177@gmail.com

  • bhavupatel  On 10/02/2016 at 14:32

    Bhacncusldhfyxbk gmv.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: