कुछ लोग खो गए इस शहर की भीड़ में-व्यंग्य कविता


अपने कुछ लोग खो गए
इस शहर की भीड़ में
उनके पते लिखे हैं
बहुत से कागजों पर
जो पड़े हैं फाईलों की भीड़ में

किसे ढूंढें और क्यों
ढेर सारे सवाल आते हैं सामने
किसी से मिलने की वजह
चाहिए हमको
जाएं मिलने तो वह भी
उठाते आने की वजह के प्रश्न सामने
समय निकला जाता है
जूझते हुए प्रश्नों की भीड़ में

अपने ही जाल में उलझे लोग
फुरसत नहीं पाते
जीवन की इस भागमभाग से
ओढ़ लिया है दिमाग में तनाव
कब ले सकते हैं दिल से काम
नहीं आता समझ में
खोये हुए है लोग
अपनी समस्याओं की भीड़ में

हम भीड़ में कहाँ तलाशें उनको
जो छोड़ नहीं पाते उसको
डरते हैं अपनी तन्हाई से
जीतने की क्या सोचेंगे वह
हारे हैं हर पल जिन्दगी के लड़ाई से
अकेले में अपने पहचाने का डर
उनके मन में रहता है
खोए रहना चाहते हैं भीड़ में

अकेले ही खडे देख रहे हैं उनको
वहाँ हाँफते और कांपते
जबरन हंसने की कोशिश करते हुए
कभी हमारे तन्हाई पर भी
हँसते हैं दूसरों के साथ
दूर रखते हैं हमारे से अपना हाथ
पर हम भी हँसते हैं
साथी है हमारी यह तन्हाई
भला कौन खुश रहा है इस भीड़ में

—————————

दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका पर लिख गया यह पाठ मौलिक एवं अप्रकाशित है। इसके कहीं अन्य प्रकाश की अनुमति नहीं है।
कवि एंव संपादक-दीपक भारतदीप

अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका
लेखक संपादक-दीपक भारतदीप

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • sanjayoscar  On 02/11/2008 at 11:17

    hello dear,

    -happy new year , app ka web creation bahoot achha hai…..subject bhi ati sundar hai………………………..wondorfull.
    -visti at : sanjayoscar.wordpress.com
    – see my real life and creatiom.
    -Sanjay Nimavat

  • pankaj  On 19/12/2008 at 16:11

    अपने कुछ लोग खो गए
    इस शहर की भीड़ में
    उनके पते लिखे हैं
    बहुत से कागजों पर
    जो पड़े हैं फाईलों की भीड़ में

    किसे ढूंढें और क्यों
    ढेर सारे सवाल आते हैं सामने
    किसी से मिलने की वजह
    चाहिए हमको
    जाएं मिलने तो वह भी
    उठाते आने की वजह के प्रश्न सामने
    समय निकला जाता है
    जूझते हुए प्रश्नों की भीड़ में

    अपने ही जाल में उलझे लोग
    फुरसत नहीं पाते
    जीवन की इस भागमभाग से
    ओढ़ लिया है दिमाग में तनाव
    कब ले सकते हैं दिल से काम
    नहीं आता समझ में
    खोये हुए है लोग
    अपनी समस्याओं की भीड़ में

    हम भीड़ में कहाँ तलाशें उनको
    जो छोड़ नहीं पाते उसको
    डरते हैं अपनी तन्हाई से
    जीतने की क्या सोचेंगे वह
    हारे हैं हर पल जिन्दगी के लड़ाई से
    अकेले में अपने पहचाने का डर
    उनके मन में रहता है
    खोए रहना चाहते हैं भीड़ में

    अकेले ही खडे देख रहे हैं उनको
    वहाँ हाँफते और कांपते
    जबरन हंसने की कोशिश करते हुए
    कभी हमारे तन्हाई पर भी
    हँसते हैं दूसरों के साथ
    दूर रखते हैं हमारे से अपना हाथ
    पर हम भी हँसते हैं
    साथी है हमारी यह तन्हाई
    भला कौन खुश रहा है इस भीड़ में

  • komal  On 27/12/2008 at 04:29

    enjoy

  • komal  On 27/12/2008 at 04:30

    अपने कुछ लोग खो गए
    इस शहर की भीड़ में
    उनके पते लिखे हैं
    बहुत से कागजों पर
    जो पड़े हैं फाईलों की भीड़ में

    किसे ढूंढें और क्यों
    ढेर सारे सवाल आते हैं सामने
    किसी से मिलने की वजह
    चाहिए हमको
    जाएं मिलने तो वह भी
    उठाते आने की वजह के प्रश्न सामने
    समय निकला जाता है
    जूझते हुए प्रश्नों की भीड़ में

    अपने ही जाल में उलझे लोग
    फुरसत नहीं पाते
    जीवन की इस भागमभाग से
    ओढ़ लिया है दिमाग में तनाव
    कब ले सकते हैं दिल से काम
    नहीं आता समझ में
    खोये हुए है लोग
    अपनी समस्याओं की भीड़ में

    हम भीड़ में कहाँ तलाशें उनको
    जो छोड़ नहीं पाते उसको
    डरते हैं अपनी तन्हाई से
    जीतने की क्या सोचेंगे वह
    हारे हैं हर पल जिन्दगी के लड़ाई से
    अकेले में अपने पहचाने का डर
    उनके मन में रहता है
    खोए रहना चाहते हैं भीड़ में

    अकेले ही खडे देख रहे हैं उनको
    वहाँ हाँफते और कांपते
    जबरन हंसने की कोशिश करते हुए
    कभी हमारे तन्हाई पर भी
    हँसते हैं दूसरों के साथ
    दूर रखते हैं हमारे से अपना हाथ
    पर हम भी हँसते हैं
    साथी है हमारी यह तन्हाई
    भला कौन खुश रहा है इस भीड़ में
    —————————

    दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका पर लिख गया यह पाठ मौलिक एवं अप्रकाशित है। इसके कहीं अन्य प्रकाश की अनुमति नहीं है।
    कवि एंव संपादक-दीपक भारतदीप

    अन्य ब्लाग
    1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
    2.अनंत शब्दयोग
    3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
    4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका
    लेखक संपादक-दीपक भारतदीप

    Tags: साहित्य, हास्य कविता, हिन्दी शायरी, हिन्दी शेर, bharatdeep, hasya kavita, hindi
    3 Responses to “कुछ लोग खो गए इस शहर की भीड़ में-व्यंग्य कविता”
    1 | sanjayoscar

    November 2nd, 2008 at 11:17 am

    hello dear,

    -happy new year , app ka web creation bahoot achha hai…..subject bhi ati sundar hai………………………..wondorfull.
    -visti at : sanjayoscar.wordpress.com
    – see my real life and creatiom.
    -Sanjay Nimavat

    2 | pankaj

    December 19th, 2008 at 4:11 pm

    अपने कुछ लोग खो गए
    इस शहर की भीड़ में
    उनके पते लिखे हैं
    बहुत से कागजों पर
    जो पड़े हैं फाईलों की भीड़ में

    किसे ढूंढें और क्यों
    ढेर सारे सवाल आते हैं सामने
    किसी से मिलने की वजह
    चाहिए हमको
    जाएं मिलने तो वह भी
    उठाते आने की वजह के प्रश्न सामने
    समय निकला जाता है
    जूझते हुए प्रश्नों की भीड़ में

    अपने ही जाल में उलझे लोग
    फुरसत नहीं पाते
    जीवन की इस भागमभाग से
    ओढ़ लिया है दिमाग में तनाव
    कब ले सकते हैं दिल से काम
    नहीं आता समझ में
    खोये हुए है लोग
    अपनी समस्याओं की भीड़ में

    हम भीड़ में कहाँ तलाशें उनको
    जो छोड़ नहीं पाते उसको
    डरते हैं अपनी तन्हाई से
    जीतने की क्या सोचेंगे वह
    हारे हैं हर पल जिन्दगी के लड़ाई से
    अकेले में अपने पहचाने का डर
    उनके मन में रहता है
    खोए रहना चाहते हैं भीड़ में

    अकेले ही खडे देख रहे हैं उनको
    वहाँ हाँफते और कांपते
    जबरन हंसने की कोशिश करते हुए
    कभी हमारे तन्हाई पर भी
    हँसते हैं दूसरों के साथ
    दूर रखते हैं हमारे से अपना हाथ
    पर हम भी हँसते हैं
    साथी है हमारी यह तन्हाई
    भला कौन खुश रहा है इस भीड़ में

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: