शेर ने कहा-‘हमें मारकर सनसनी फैलायेंगे’-व्यंग्य कविता


शेरनी ने शेर से कहा
‘सुना है तू नरभक्षी हो गया है
शर्म नहीं तुझे ऐसा करने में
अब लोग झूंड बनाकर ढूंढ रहे है
हथियार लेकर
तुझे डर नहीं लगता मरने में
अगर तू इंसान के हाथ से नहीं मरा
तो भी उसका मांस खाकर
बहुत बड़े पाप का भागी हो जायेगा
उसके जहर से जल्दी मर जायेगा
कई जन्म तक चूहे और बकरी
जैसी पिटने वाली यौनियों में
जन्म पायेगा
इससे बहुत समय लगेगा तुझे उबरने में’

शेर ने कहा
‘यह मुझे हमारे खानदान को मिटाने के लिये
इंसानों का रचा गया प्रोपेगंडा
जंगल के सभी जानवरों को नष्ट करना
उनका खास एजेंडा है
इस समय टीवी चैनलों पर कोई
खास प्रोग्राम नहीं है
खबर बनाना है,ढूंढने का काम नहीं है
निगाहें कहीं
निशाना और कहीं है
पहले खलनायक बनाते हैं
फिर नायक बताते है
पर हम इंसान नहीं है
जो उनकी भाषा बोल पायेंगे
पहले वह हमें नरभक्षी बताकर
सभी की सहानुभूति जुटायेंगे
फिर आकर हमें मार जायेंगे
खबर सुनाकर सनसनी फैलायेंगे
इसलिये यह जगह छोड़ कर चलते हैं अन्यत्र
यहां का पानी की बूंदें पीने का
अपना हो गया कोटा पूरा
चलते है दूर यहां से
पानी पियेंगे अब दूसरे झरने में

………………………………………

यह आलेख ‘दीपक भारतदीप की हिंदी पत्रिका’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
लेखक संपादक-दीपक भारतदीप

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • nitish raj  On 22/08/2008 at 16:20

    सही कटाक्ष है। बहुत ही बढ़िया

  • sameerlal  On 22/08/2008 at 18:29

    बहुत खूब!!

  • preeti barthwal  On 22/08/2008 at 19:27

    बहुत सुन्दर रचना

  • seema gupta  On 23/08/2008 at 03:45

    यहां का पानी की बूंदें पीने का
    अपना हो गया कोटा पूरा
    चलते है दूर यहां से
    पानी पियेंगे अब दूसरे झरने में

    “ha ha ha ha lgta hai dana panee uth gya beecahorn ka, great poetry”
    Regards

  • बहुत सुन्दर। व्यंग्य की यही तो ख़ासियत होती है। हंसी हंसी में ही इतनी गहरी बात कह गए आप।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: