कम दर्शकों द्वारा फिल्म देखने की शिकायत बेमानी-आलेख


आज मैने एक अंग्रेजी ब्लाग पर पाकिस्तानी फिल्म ‘खुदा के लिये’ के बारे में चर्चा पढ़ी। अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद के जरिये पढ़ी इस चर्चा में भारत में इसे अधिक दर्शकों द्वारा न देखने का उल्लेख किया गया। इसकी तारीफ में बहुत सारे कसीदे भी पढ़े गये। मुझे वहां एक अनाम व्यक्ति की टिप्पणी भी दिखी जिसमें उसने इस बात का उल्लेख किया कि फिल्म में कोई बड़ा भाई है जो अपने एक गोरे  छात्र को बता रहा है कि ताजमहल का निर्माण हम मुसलमानों ने किया है। उस टिप्पणी देने वाले ने यह बात भी स्पष्ट की कि यह पाकिस्तान की फिल्म न होकर एक धर्म के लोगों को संदेश देती है कि वह अपने धार्मिक भावनाओं को अपने देश से अधिक महत्व दें।  साथ ही यह भी दर्शाती है कि पाकिस्तान का एक बहुत बड़ा वर्ग अभी भी भ्रम का शिकार है। उस टिप्पणीकार ने लिख कि ताजमहल क निर्माण में आगरा और उसके आसपास के लोगों ने काम किया इसलिये उसे किसी विशेष से जोड़ना ठीक नहीं है। मै उसकी इस बात से सहमत था।

इसमें अमित नाम के व्यक्ति की टिप्पणी भी थी कि जिसने इसका उल्लेख किया गया था। मतलब यह है कि भारत के बुद्धिजीवी भी बहुत सारे भ्रमों के शिकार हैं। वह इस बात को नहीं समझ रहे कि जिस तरह विदेशों से आयातित विचारधाराओं और नारों से पूर्वाग्रहों से ग्रसित   हैं वैसे ही पाकिस्तानी भी मजहब की भावनाओं से बंधे हैं। दोनों तरफ एकता के नाम पर पाकिस्तानी ऐसी सामग्री इस देश में लायेंगे जो उनके पूर्वाग्रहों से सुसज्जित होंगी। 

पहले ताजमहल की बात कर लें। ताजमहल शाहजहां ने बनवाया था-हालांकि कुछ लोग इस पर भी विवाद खड़ा करते हैं-ऐसा कहा जाता है पर उसमें खून पसीना बहाया था मजदूरों ने और उसकी कीमत चुकाई थी इस देश के किसानों और व्यापारियों ने। उस समय कोई उद्योग नहीं थे और न कोई आयकर था। सर्वाधिक वसूली किसानों की उपज और बाहर से आने वाले व्यापारियों से होती थी। शाहजहां ने कोई घर से पैसा नहीं लगाया बल्कि इस देश की गरीब जनता की खून पसीने से लगान के रूप में या जमीदारों और साहूकारों से कर उसे इस एतिहासिक इमारत में लगाया गया। कुछ इतिहासकार कहते हैं कि ताजमहल पर बहुत अधिक व्यय से भी राज्य की आर्थिक स्थिति खराब हो रही थी इसलिये उसके पुत्र औरंगजेब ने अपने पिता को हटाकर राज्य अपने कब्जे में ले लिया। मतलब उसे अपनी माता की स्मृति में बनाये गये इस स्मारक से अधिक अपने राज्य की दुर्दशा ने कष्ट पहुंचाया और उसने राज्य हथिया लिया।

पाकिस्तान के बुद्धिजीवियों की अगर ऐसी हालत है तो उनसे किसी प्रकार का संपर्क इस देश के लिये लाभदायक नहीं रहने वाला है। जो इतिहास ( जिसे कुछ विद्वान झूठ का पुलिंदा भी मानते हैं) का बोझ अपने सिर पर रखकर चलते हैं वह चिंतन और अध्ययन से परे होते हैं। पाकिस्तान के फिल्मकार और बुद्धिजीवियों भी इसका शिकार हैं। अगर वह विदेश में भारत की एतिहासिक इमारतों के निर्माण का गौरव अपने मजहब के नाम से दिखाते हैं तो फिर उनसे यह आशा करना बेकार है कि वह इस देश के आम लोगों के सच्चे सहानुभूति प्रदान करने वाले हैं।

मैंने वह फिल्म नहीं देखी। न उसमें मेरी रुचि है क्योंकि इस तरह की फिल्में मुझे किसी तरह का मनोरंजन नहीं देतीं। जहां तक ज्ञान की बात है तो अभी बहुत सारी किताबें हैं जिससे पढ़ना है और मनोरंजन तो साहित्य  या संगीत ही से हो पाता है और हिंदी में लिखा अभी पूरा पढ़ा भी नहीं हैं सो एक पाकिस्तानी फिल्म क्या दिखायेगी जबकि भारतीय फिल्में भी इससे परे हैं। इसी ब्लाग में मैंने पढ़ा कि उसमें कोई प्रेम कहानी है। भारत हो या पाकिस्तान की कोई भी फिल्म प्रेम कहानी के बिना बनती नहीं। हां कुछ फिल्मकार उसकी आड़ में अपने  के धनदाता के  विचारों के  के अनुसार कुछ धार्मिक और सांस्कृतिक पुट डालते हैं ताकि वह प्रसन्न रहें। यह भी कोई ऐसी फिल्म रही होगी। भारतीय दर्शक अगर उसमें कम रुचि ले रहे हैं तो इसका कारण यही है कि उनको पता चल गया था कि इस फिल्म में कला के नाम पर कुछ नहीं है। अब इस तरह कुछ लोग हमारे देश की मानसिकता पर प्रश्न उठा रहे हैं तो पहले उन्हें यह भी देखना चाहिए कि इस देश में सैंकड़ों फिल्में बनती हैं और उनसे भरपूर मनोरंजन होता है तब क्यों वह ऐसी साधारण फिल्म को देखना चाहेगा जिसका प्रचार केवल इसलिये हो रहा है कि उसे एक पाकिस्तानी ने बनाया है। जहां तक मेरी जानकारी है पाकिस्तान में भी भारतीय फिल्में इस पर भारी पड़ीं हैं। ऐसे में क्यों केवल भारत में इसको कम देखे जाने की शिकायत हो रही है। वैसे भी भारत के आम लोग इस बात को समझ गये हैं कि फिल्मों की आड़ में किस तरह उस पर  ऐसी संस्कृति और काल्पनिक घटनायें प्रस्तुत की जा रही है जो उसकी समझ से परे है और जो कथित विद्वान उस पर दाद चाहते है वह स्वयं भ्रमित हैं.

it transtalshan by googl tool

The complaint by the audience could reduce redundant – Stories
Today I on an English Blog Pakistani film ‘for God’ read about. Hindi translation from English to read through this discussion in India in more viewers by not see it mentioned. It also praised the many embroidered were read. There’s an anonymous person I see a comment which he also noted that this is a film in a big brother who is a student tell the Europeans is that we Muslims have done to build the Taj Mahal. He made the comment it’s also clear that this is Pakistan’s film and not a religion of the people is that it gives a message to his religious feelings of more importance to his country. It also shows that a large section of Pakistan is still a victim of confusion. Has been a commentator writing that the construction of the Taj Mahal, Agra and nearby people have worked so it is not proper to link a particular. I agree with her.

The name of Amit person who commented that it was also mentioned. This means that India’s intellectuals are also a lot of confusions of the victims. He does not understand the fact that the kind of slogans and ideologies imported from abroad prejudices are so obsessed with the feelings of Pakistanis also bound by religion. On both sides of unity in the name of the Pakistani such material in this country who will be equipped with their prejudices.

Before talking about the Taj Mahal. Shah Jahan built the Taj Mahal – even though some people are standing dispute – It is said of the blood and sweat of the workers had poured out his price was paid in this country, farmers and traders. At that time there were no industry and no income tax. The recovery of most farmers produce coming from outside and from traders. Shah Jahan had not put any money from the house but the poor people of this country’s blood, sweat or rent in the form of landlord and capilist it was put up in this historical building. Some historians say that too much expenditure on the Taj Mahal, the state’s economic situation was so bad that his son Aurangzeb to his father removed his capture in the state. It means to the memory of his mother made to the memorial over the plight of his state and he has brought pain and grabbed the state.

Pakistan’s intelligentsia such circumstances, if any kind of contact with them for this country living is not profitable. The history (which some scholars believe the lies of the sheaf) burden to place on their heads walk beyond the thought and study them. Pakistan is also a victim of the filmmakers and intellectuals. India’s Foreign If the historical buildings, the pride of building your faith in the name of the show, then expect him to waste to the country’s ordinary people who provide genuine sympathy.

I have not seen the film. It is not my interest because this kind of films I do not let any kind of entertainment. As far as knowledge is concerned, it is still a lot of books that are read and entertainment, literature or the music gets to be written in Hindi and read are not yet complete So what a Pakistani film show, while Indian films are also beyond it. I read it in this Blog a love story. India, Pakistan or any film without the love story going. Yes, some of his screen his film-contributory, according to the views of some religious and cultural be happy to put it to kill. It is also a film will be. Indian audiences less interested if there are reasons, it is that they discover that the film was in the name of art is nothing. Now this kind of mentality of our country some people are taking the first question they should also see that this country hundreds of films made and they are full of entertainment then why is he wants to see a film simply because it is only a publicity That has made him a Pakistani. As far as I know the Indian films in Pakistan, also fell on heavy. So why in India, only to see it reduced the complaint is happening. The common people of India have to understand that this movie screen in a culture of how the fictional incidents and is being submitted beyond the understanding of his and which he allegedly learned he is wanted on ringworm are confused

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • mehhekk  On 04/05/2008 at 06:10

    puri tarah se sehmat hai hum bhi,tajmahal hindustan ki amanay hai kisi majhab ki nahi,vaise bhi apna desh multicultural hai,sab religions ka saman swagat karne wala,phir kuch log bhed bhav kahe failate hai.

  • parulk  On 04/05/2008 at 08:00

    lekh ka arth nahi samjh paayi shayad mai….magar film ek khaas varg ki pichhdi soch v unki ruudhivaadi paramparaon ke khilaaf banayi gayi hai aur ek sarthak v khuubsurat chitr prastut karti hai…kul milaakar isey zaruur dekhna chahiye…..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: